Hartalika Teej Puja Vidhi and Vrat Katha in Hindi and Marathi

By | August 25, 2016

Hartalika Teej could be a Hindu fasting discovered by Hindu girls. It’s dedicated to divinity Parvati. Hartalika Teej falls on the third day of the primary period of the month of ‘Bhadra’. The competition continues 3 days and is widely known by girls in honor of Parvati Maa. It one amongst 3 Teej festivals and most popularly celebrated within the Northern and western elements of Republic of India. The competition of Hartalika Teez is especially carried on in Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Bihar, Jharkhand and Rajasthan and is a few elements of Maharashtra. According to Hindu mythology Parvati was crazy with Shiva. Being an ascetic Lord shiva wasn’t tuned in to her. Parvati performed penance on the mountain range for several years and eventually Shiva took notice of her. Then Lord shiva came to grasp regarding her love and devotion towards him and in agreement to marry her. Since then Parvati has been adored as Haritalika.

Hartalika Teej Puja Vidhi and Vrat Katha in Hindi and Marathi

Hartalika Teej Puja Vidhi

इस व्रत के सुअवसर पर सौभाग्यवती स्त्रियां नए लाल वस्त्र पहनकर, मेंहदी लगाकर, सोलह शृंगार करती है और शुभ मुहूर्त में भगवान शिव और मां पार्वती जी की पूजा आरम्भ करती है। इस पूजा में शिव-पार्वती की मूर्तियों का विधिवत पूजन किया जाता है और फिर हरितालिका तीज की कथा को सुना जाता है। माता पार्वती पर सुहाग का सारा सामान चढ़ाया जाता है। भक्तों में मान्यता है कि जो सभी पापों और सांसारिक तापों को हरने वाले हरितालिका व्रत को विधि पूर्वक करता है, उसके सौभाग्य की रक्षा स्वयं भगवान शिव करते हैं।

शिव पुराण की एक कथानुसार इस पावन व्रत को सबसे पहले राजा हिमवान की पुत्री माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए किया था और उनके तप और आराधना से खुश होकर भगवान शिव ने माता को पत्नी के रूप में स्वीकार किया था।

Hartalika Teej Wishes

Maa Parvati aap pr apni kripa hamesha banaye rakhe..HapPY Hartalika Teej


Teej kaa vrat hai bahut hi madhur pyaar kaa. Dil ki Shraddha aur sachhe vishwaas kaa…Happy Hartalika Teej

Maa Parvati aapp pur apni krupa humeshaa banaye r@hkhee. Apko Teej ki Shubh Kamnaye….Happy Hartalika Teej


Teej is the day which shows woman’s love and sacrifice….Happy Hartalika Teej


May your wishes come true and you get powerful & loving husband like lord Shiva. # Happy Hartalika Teej

Teej Ka Vrat Hai Bahut Hi Madhur Pyaar Ka
Dil Ki Shraddha Or Sachey Vishvaas Ka
Bichhiyaa Pairon Mein Ho
Maathe Par Bindiya
Har Janam Mein Milan Ho Hamara Piya


Teej Ka Tyohaar Hai Umango Ka Tyohaar
Phool Khile Hai Baaghon Mein
Barish Ki Hai Fuhaar
Dil Se Aap Sab Ko Ho Mubarak
Pyara Ye Teej Ka Tyohaar


Aaya re aaya
Haryali Teej ka tyohar hai aaya
Sang mein khushiyan aur
Der sara payar hai laya
Haryali Teej ki der saari shubh kamnaiye


Sawan ka mahina
Pawan kare shor
Jiya ra jhume aise
Jese man ma nache mor….Happy Hartalika Teej


Kachi pakki neem ki nimboli,
Sawan jaldi aayo re,
Maharo dil dhadka jaaye,
Saawan jaldi aayo re.
Hatalika teej ki hardik badhai.


May Goddess Parvati spread into your life Peace, Prosperity, Happiness and Good Health # Happy Hartalika Teej.

Hartalika Teej Vrat Katha

श्री भोलेशंकर बोले- हे गौरी! पर्वतराज हिमालय पर स्थित गंगा के तट पर तुमने अपनी बाल्यावस्था में बारह वर्षों तक अधोमुखी होकर घोर तप किया था। इतनी अवधि तुमने अन्न न खाकर पेड़ों के सूखे पत्ते चबा कर व्यतीत किए। माघ की विक्राल शीतलता में तुमने निरंतर जल में प्रवेश करके तप किया। वैशाख की जला देने वाली गर्मी में तुमने पंचाग्नि से शरीर को तपाया। श्रावण की मूसलधार वर्षा में खुले आसमान के नीचे बिना अन्न-जल ग्रहण किए समय व्यतीत किया। तुम्हारे पिता तुम्हारी कष्ट साध्य तपस्या को देखकर बड़े दुखी होते थे। उन्हें बड़ा क्लेश होता था। तब एक दिन तुम्हारी तपस्या तथा पिता के क्लेश को देखकर नारदजी तुम्हारे घर पधारे। तुम्हारे पिता ने हृदय से अतिथि सत्कार करके उनके आने का कारण पूछा। नारदजी ने कहा- गिरिराज! मैं भगवान विष्णु के भेजने पर यहां उपस्थित हुआ हूं। आपकी कन्या ने बड़ा कठोर तप किया है। इससे प्रसन्न होकर वे आपकी सुपुत्री से विवाह करना चाहते हैं। इस संदर्भ में आपकी राय जानना चाहता हूं।

नारदजी की बात सुनकर गिरिराज गद्‍गद हो उठे। उनके तो जैसे सारे क्लेश ही दूर हो गए। प्रसन्नचित होकर वे बोले- श्रीमान्‌! यदि स्वयं विष्णु मेरी कन्या का वरण करना चाहते हैं तो भला मुझे क्या आपत्ति हो सकती है। वे तो साक्षात ब्रह्म हैं। हे महर्षि! यह तो हर पिता की इच्छा होती है कि उसकी पुत्री सुख-सम्पदा से युक्त पति के घर की लक्ष्मी बने। पिता की सार्थकता इसी में है कि पति के घर जाकर उसकी पुत्री पिता के घर से अधिक सुखी रहे।

तुम्हारे पिता की स्वीकृति पाकर नारदजी विष्णु के पास गए और उनसे तुम्हारे ब्याह के निश्चित होने का समाचार सुनाया। मगर इस विवाह संबंध की बात जब तुम्हारे कान में पड़ी तो तुम्हारे दुख का ठिकाना न रहा। तुम्हारी एक सखी ने तुम्हारी इस मानसिक दशा को समझ लिया और उसने तुमसे उस विक्षिप्तता का कारण जानना चाहा। तब तुमने बताया – मैंने सच्चे हृदय से भगवान शिवशंकर का वरण किया है, किंतु मेरे पिता ने मेरा विवाह विष्णुजी से निश्चित कर दिया। मैं विचित्र धर्म-संकट में हूं। अब क्या करूं? प्राण छोड़ देने के अतिरिक्त अब कोई भी उपाय शेष नहीं बचा है। तुम्हारी सखी बड़ी ही समझदार और सूझबूझ वाली थी।

उसने कहा- सखी! प्राण त्यागने का इसमें कारण ही क्या है? संकट के मौके पर धैर्य से काम लेना चाहिए। नारी के जीवन की सार्थकता इसी में है कि पति-रूप में हृदय से जिसे एक बार स्वीकार कर लिया, जीवनपर्यंत उसी से निर्वाह करें। सच्ची आस्था और एकनिष्ठा के समक्ष तो ईश्वर को भी समर्पण करना पड़ता है। मैं तुम्हें घनघोर जंगल में ले चलती हूं, जो साधना स्थली भी हो और जहां तुम्हारे पिता तुम्हें खोज भी न पाएं। वहां तुम साधना में लीन हो जाना। मुझे विश्वास है कि ईश्वर अवश्य ही तुम्हारी सहायता करेंगे।

तुमने ऐसा ही किया। तुम्हारे पिता तुम्हें घर पर न पाकर बड़े दुखी तथा चिंतित हुए। वे सोचने लगे कि तुम जाने कहां चली गई। मैं विष्णुजी से उसका विवाह करने का प्रण कर चुका हूं। यदि भगवान विष्णु बारात लेकर आ गए और कन्या घर पर न हुई तो बड़ा अपमान होगा। मैं तो कहीं मुंह दिखाने के योग्य भी नहीं रहूंगा। यही सब सोचकर गिरिराज ने जोर-शोर से तुम्हारी खोज शुरू करवा दी। इधर तुम्हारी खोज होती रही और उधर तुम अपनी सखी के साथ नदी के तट पर एक गुफा में मेरी आराधना में लीन थीं। भाद्रपद शुक्ल तृतीया को हस्त नक्षत्र था। उस दिन तुमने रेत के शिवलिंग का निर्माण करके व्रत किया। रात भर मेरी स्तुति के गीत गाकर जागीं। तुम्हारी इस कष्ट साध्य तपस्या के प्रभाव से मेरा आसन डोलने लगा। मेरी समाधि टूट गई। मैं तुरंत तुम्हारे समक्ष जा पहुंचा और तुम्हारी तपस्या से प्रसन्न होकर तुमसे वर मांगने के लिए कहा।

तब अपनी तपस्या के फलस्वरूप मुझे अपने समक्ष पाकर तुमने कहा – मैं हृदय से आपको पति के रूप में वरण कर चुकी हूं। यदि आप सचमुच मेरी तपस्या से प्रसन्न होकर आप यहां पधारे हैं तो मुझे अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार कर लीजिए।

तब मैं ‘तथास्तु’ कह कर कैलाश पर्वत पर लौट आया। प्रातः होते ही तुमने पूजा की समस्त सामग्री को नदी में प्रवाहित करके अपनी सहेली सहित व्रत का पारणा किया। उसी समय अपने मित्र-बंधु व दरबारियों सहित गिरिराज तुम्हें खोजते-खोजते वहां आ पहुंचे और तुम्हारी इस कष्ट साध्य तपस्या का कारण तथा उद्देश्य पूछा। उस समय तुम्हारी दशा को देखकर गिरिराज अत्यधिक दुखी हुए और पीड़ा के कारण उनकी आंखों में आंसू उमड़ आए थे। तुमने उनके आंसू पोंछते हुए विनम्र स्वर में कहा- पिताजी! मैंने अपने जीवन का अधिकांश समय कठोर तपस्या में बिताया है। मेरी इस तपस्या का उद्देश्य केवल यही था कि मैं महादेव को पति के रूप में पाना चाहती थी। आज मैं अपनी तपस्या की कसौटी पर खरी उतर चुकी हूं। आप क्योंकि विष्णुजी से मेरा विवाह करने का निर्णय ले चुके थे, इसलिए मैं अपने आराध्य की खोज में घर छोड़कर चली आई। अब मैं आपके साथ इसी शर्त पर घर जाऊंगी कि आप मेरा विवाह विष्णुजी से न करके महादेवजी से करेंगे।

गिरिराज मान गए और तुम्हें घर ले गए। कुछ समय के पश्चात शास्त्रोक्त विधि-विधानपूर्वक उन्होंने हम दोनों को विवाह सूत्र में बांध दिया।

हे पार्वती! भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को तुमने मेरी आराधना करके जो व्रत किया था, उसी के फलस्वरूप मेरा तुमसे विवाह हो सका। इसका महत्व यह है कि मैं इस व्रत को करने वाली कुंआरियों को मनोवांछित फल देता हूं। इसलिए सौभाग्य की इच्छा करने वाली प्रत्येक युवती को यह व्रत पूरी एकनिष्ठा तथा आस्था से करना चाहिए।

***

Unmarried ladies keep the quick and pray to Goddesses Parvati in hope to urge sensible husbands. Hartalika Teej Vrat is discovered by each married and unwedded girls. Married girls keep the Vrat so as to realize happy and peaceful married life. Married women return to their parent’s home to celebrate the competition. Some even maintain nirjala vrata (without water) on these 3 days and refrain from sleep all the 3 days. This can be symbolic of the penance that Goddesses Parvati undertook to urge Shiva as her husband. Throughout the Vrat food is being offered to Brahmins and young ladies.

Hartalika Teej is additionally the time to adorn oneself with new garments and jewelry. In Maharashtra girls wear green garments, green bangles, golden bindis and kajal for luck. Applying mehndi on hands and feet is one amongst the distinctive options of Hartalike Teej celebrations. They provide recent fruits and green vegetables to the goddesses and superbly painted coconut to their feminine relatives. Once the rituals pass though girls take a feast of rice patolis and sugar steamed in banana leaves, mixed vegetables barbecued with spices and coconut milk, a sweet made up of coconut milk and rice. Tender coconut milk is taken as a treat of the day.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *