Happy papmochani ekadashi 2016 vrat katha in hindi

By | April 3, 2016

Papmochani Ekadashi is determined throughout avatar Paksha of Chaitra month consistent with North Indian Purnimant calendar and avatar Paksha of Hindu calendar month consistent with South Indian Amavasyant calendar. But each North Indian and South Indian observes it on identical day. Presently it falls in month of March or April in English calendar. Parana means that breaking the quick. Ekadashi Parana River is finished when sunrise on next day of Ekadashi quick. It’s necessary to try and do Parana River among Dwadashi Tithi unless Dwadashi is over before sunrise. Not doing Parana River among Dwadashi is analogous to an offence. Parana mustn’t be done throughout Hari Vasara. One ought to expect Hari Vasara to induce over before breaking the quick. Hari Vasara is initial one fourth length of Dwadashi Tithi. The foremost most well-liked time to interrupt the quick is Pratahkal. One ought to avoid breaking the quick throughout Madhyahna. If because of some reasons one isn’t able to break the quick throughout Pratahkal then one ought to make love when Madhyahna. At times Ekadashi abstinence is recommended on 2 consecutive days. It’s suggested that Smartha with family ought to observe abstinence on initial day solely. The alternate Ekadashi abstinence that is that the other, is recommended for Sanyasis, widows and for those that need Moksha. Once alternate Ekadashi abstinence is recommended for Smartha it coincides with Vaishnava Ekadashi abstinence day. Ekadashi abstinence on each day is recommended for staunch devotees United Nations agency hunt for love and warm-heartedness of Lord Hindu deity.

Happy papmochani ekadashi 2016

This was all about the Papmochani Ekadashi history. Hence get ready to ensure the happiness of this day. Here you can get Papmochani Ekadashi wishes, Papmochani Ekadashi greetings, Papmochani Ekadashi quotes and most popular Papmochani Ekadashi vrat ways to do also. Just follow the following part and do Papmochani Ekadashi vrat at home. Now you do not have to ask to anyone, just follow the all steps and keep on moving ahead.

Papmochani ekadashi 2016 vrat katha in hindi

कथा के अनुसार भगवान अर्जुन से कहते हैं, राजा मान्धाता ने एक समय में लोमश ऋषि से जब पूछा कि प्रभु यह बताएं कि मनुष्य जो जाने अनजाने पाप कर्म करता है उससे कैसे मुक्त हो सकता है. राजा मान्धाता के इस प्रश्न के जवाब में लोमश ऋषि ने राजा को एक कहानी सुनाई कि चैत्ररथ नामक सुन्दर वन में च्यवन ऋषि के पुत्र मेधावी ऋषि तपस्या में लीन थे. इस वन में एक दिन मंजुघोषा नामक अप्सरा की नज़र ऋषि पर पड़ी तो वह उनपर मोहित हो गयी और उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने हेतु यत्न करने लगी. कामदेव भी उस समय उधर से गुजर रहे थे कि उनकी नज़र अप्सरा पर गयी और वह उसकी मनोभावना को समझते हुए उसकी सहायता करने लगे. अप्सरा अपने यत्न में सफल हुई और ऋषि कामपीड़ित हो गये.

काम के वश में होकर ऋषि शिव की तपस्या का व्रत भूल गये और अप्सरा के साथ रमण करने लगे. कई वर्षों के बाद जब उनकी चेतना जगी तो उन्हें एहसास हुआ कि वह शिव की तपस्या से विरत हो चुके हैं उन्हें तब उस अप्सरा पर बहुत क्रोध हुआ और तपस्या भंग करने का दोषी जानकर ऋषि ने अप्सरा को श्राप दे दिया कि तुम पिशाचिनी बन जाओ. श्राप से दु:खी होकर वह ऋषि के पैरों पर गिर पड़ी और श्राप से मुक्ति के लिए अनुनय करने लगी.

मेधावी ऋषि ने तब उस अप्सरा को विधि सहित चैत्र कृष्ण एकादशी का व्रत करने के लिए कहा। भोग में निमग्न रहने के कारण ऋषि का तेज भी लोप हो गया था अत: ऋषि ने भी इस एकादशी का व्रत किया जिससे उनका पाप नष्ट हो गया। उधर अप्सरा भी इस व्रत के प्रभाव से पिशाच योनि से मुक्त हो गयी और उसे सुन्दर रूप प्राप्त हुआ व स्वर्ग के लिए प्रस्थान कर गयी.

Papmochani ekadashi 2016 vrat vidhi

पाप मोचनी एकादशी के विषय में भविष्योत्तर पुराण में विस्तार से वर्णन किया गया है। इस व्रत में भगवान विष्णु के चतुर्भुज रूप की पूजा की जाती है। व्रती दशमी तिथि को एक बार सात्विक भोजन करे और मन से भोग विलास की भावना को निकालकर हरि में मन को लगाएं। एकादशी के दिन सूर्योदय काल में स्नान करके व्रत का संकल्प करें। संकल्प के उपरान्त षोड्षोपचार सहित श्री विष्णु की पूजा करें। पूजा के पश्चात भगवान के समक्ष बैठकर भग्वद् कथा का पाठ अथवा श्रवण करें। एकादशी तिथि को जागरण करने से कई गुणा पुण्य मिलता है अत: रात्रि में भी निराहार रहकर भजन कीर्तन करते हुए जागरण करें। द्वादशी के दिन प्रात: स्नान करके विष्णु भगवान की पूजा करें फिर ब्रह्मणों को भोजन करवाकर दक्षिणा सहित विदा करें पश्चात स्वयं भोजन करें.

So friends it is all about the Papmochani Ekadashi 2016 vrat procedure. For more details, kindly stay in touch and keep checking website regularly.

Thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *